बैंक से हटाए गए कर्मचारियों का बोर्ड बैठक में हंगामा

टिहरी। जिला सहकारी बैंक में दोबारा नौकरी पर लेने की मांग को लेकर लंबे समय से आंदोलित कर्मियों का सब्र का बांध अब टूटने लगा। शुक्रवार को आक्रोशित कर्मी बैंक की बोर्ड बैठक के दौरान बैठक कक्ष में घुसे और बैंक प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी की। इस दौरान बोर्ड सदस्य और कर्मियों के बीच खूब बहस हुई, लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला। कर्मचारियों ने मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया है। जिला सहकारी बैंक से हटाए कर्मचारी लंबे समय से आंदोलित है। उत्तम सिंह भंडारी पांच दिनों से बैंक परिसर में आमरण अनशन पर है। शुक्रवार को हटाए गए कर्मचारी कांग्रेस नेता आकाश कृषाली, मोहन सिंह रावत के नेतृत्व में बैंक की बोर्ड बैठक के दौरान बैठक कक्ष में घुसे। यहां बैंक के खिलाफ प्रदर्शन कर नारेबाजी की। इस दौरान बैंक अध्यक्ष रजनीकांत सुरीरा ने प्रदर्शन में शामिल पूर्व सैनिक आनंद सिंह रावत का उदाहरण देते कहा कि उन्हें इंटरव्यू में सेनाध्यक्षों के नाम पूछे गए, लेकिन वह एक भी सेनाध्यक्ष का नाम नहीं बता पाए, जिस पर उनका चयन नहीं हो पाया। इस पर आनंद रावत ने भी तपाक से जबाव दिया कि इंटरव्यू में बेतुके सवाल पूछे गए। यह भी सवाल पूछा गया कि सोले फिल्म में हीरोइन कौन है। आरोप लगाया कि चतुर्थ श्रेणी के पदों पर हुई सीधी भर्ती में धांधली हुई है। पैसा लेकर अपने चहेतों को नौकरी दी गई। जबकि कई सालों से काम कर रहे कर्मचारियों को हटाया गया है। काफी देर तक चली बहस के बाद भी कोई हल नहीं निकला। इस पर कर्मचारियों ने मांग पूरी होने तक आंदोलन जारी रखने की चेतावनी दी है। प्रदर्शन करने वालों में गंगा भगत, विजयराम सेमवाल, रघुवीर लाल, कल्पत सिंह, मूर्तिलाल, राजेंद्र रावत, दिनेश राणा, सुरेंद्र रौथाण आदि शामिल रहे। अशनकारी की तबियत बिगड़ीनई टिहरी। पांच दिनों से आमरण पर बैठे उत्तम सिंह भंडारी की शुक्रवार दोपहर अचानक तबियत बिगड़ गई। प्रशासन से उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती करा दिया है। उनके स्थान पर सोबेंद्र थपलियाल ने आमरण अनशन शुरू कर दिया है।बैंक से हटाए कर्मचारियों को दोबारा नौकरी पर रखने के लिए निबंधक को प्रस्ताव भेजा गया है। पद सृजित होने के बाद ही कर्मचारियों को नौकरी पर रखा जाएगा। चतुर्थ श्रेणी पदों पर हुई भर्ती पूरी पादर्शिता के साथ की गई है।

Facebook Comments

Random Posts