बाबरी माजिद मामले पर किसी तरह की सूचना मिलने से आडवाणी ने किया इनकार

0

भाजपा के वरिष्ट  नेता लालकृष्ण आडवाणी ने बाबरी माजिद मामले पर किसी तरह की सूचना मिलने से इनकार किया है। आडवाणी ने कहा कि उन्होंने अखबार में कहीं पढ़ा था पर अब तक कोई सूचना नहीं मिली है। बता दें कि अयोध्या के विवादित बाबरी मस्जिद का ढांचा गिराये जाने के मामले में उच्चतम न्यायालय के ताजा रुख से भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और केंद्रीय मंत्री उमा भारती की मुश्किलें बढ़ गयी हैं। 25 साल पुराने इस मामले की फिर से सुनवाई हो सकती है और अदालत में इस आरोप की फिर से जांच हो सकती है कि इस ढांचे को गिराए जाने में इन नेताओं की आपराधिक साजिश थी या नहीं। इन तीन नेताओं के अलावा भाजपा और विहिप के अन्य 10 नेताओं पर भी इस मामले में साजिश का मुकदमा फिर से चल सकता है। बाबरी मस्जिद का ढांचा 6 दिसंबर 1992 को गिराया गया था। विवादित बाबरी मस्जिद के ढांचे को गिराए जाने के मामले में जो दो मुकदमे दर्ज किये गये थे, उनमे से पहले मुकदमे में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी सहित 19 लोगों के खिलाफ घटना की साजिश रचने का आरोप दर्ज किया गया था। नौ साल तक मुकदमे की सुनवाई के बाद विशेष अदालत ने 4 मई 2001 को इन सभी के आरोप को खत्म कर दिया था।

Facebook Comments

Random Posts