केन्द्र सरकार के खिलाफ आंगनवाडी कार्यकत्रियों का धरना-प्रदर्शन

sss500

राज्य कर्मचारी शीघ्र ही घोषित किये जाने एवं मुख्य सेविका के पदों पर आंगनवाडी कार्यकत्रियों से ही शत प्रतिशत पदोन्नति किये जाने की मांग को लेकर आंगनवाडी कार्यकत्री सेविका मिनी कर्मचारी संगठन ने केन्द्र सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए अनिश्चितकालीन धरने व प्रदर्शन को जारी रखा।

यहां संगठन से जुड़ी हुए आंगनवाडी कार्यकत्रियां अध्यक्ष रेखा नेगी के नेतृत्व में धरना स्थल पर इकटठा हुए और वहां पर केन्द्र सरकार के खिलाफ जमकर प्रदर्शन करते हुए धरना दिया। इस अवसर पर आयोजित सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि लगातार आंदोलन करने के बाद भी केन्द्र सरकार उनके हितों के लिए किसी भी प्रकार की कोई नीति तैयार नहीं कर पा रही है। उनका कहना है कि पिछले माह से उनका आंदोलन चल रहा है लेकिन केन्द्र सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि लगातार उनका शोषण किया जा रहा है, जिससे उनमें रोष है।

उन्होंने कहा कि केन्द्रीय महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने पूर्व में अपना बयान दिया था कि दस साल पूरे होने पर आंगनवाडी कार्यकत्री को सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाये लेकिन आज तक इस ओर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं हो पाई है। उनका कहना है कि मिनी कार्यकत्री को उच्चीकरण एवं समान कार्य के लिए समान वेतन दिया जाये, परन्तु इस ओर भी किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नहीं की गई है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि जल्द ही उनकी मांगों का निराकरण नहीं किया गया तो सड़कों पर उतरकर आंदोलन को तेज किया जायेगा।

उनका कहना है कि न्यूनतम वेतनमान को सातवें वेतन आयोग के अनुरूप अठठारह हजार रूपये किया जाये, लेकिन अभी इस दिशा में केन्द्र सरकार किसी भी प्रकार की कोई नीति तैयार नहीं कर पाई है। उनका कहना है कि इस ओर केन्द्र सरकार को ठोस निर्णय लेना होगा। उनका कहना है कि जल्द ही उनकी मांगों पर कार्यवाही नहीं की गई तो आंदोलन को तेज किया जायेगा। उन्होंने कहा कि पूर्व में हुए समझौतों का आज तक पालन नहीं किया गया है जिससे उनमें रोष बना हुआ है। उनका कहना है कि पिछले तेईस दिनों से वह कार्य बहिष्कार पर है लेकिन अभी तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया है।

Facebook Comments

Random Posts