करोड़ों के घोटाले में बैंक के अधिकारी को जेल

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद आखिरकार करोड़ों रुपये के घोटाले के आरोपी साउथ इंडियन बैंक के अधिकारी अमित परमार को जेल जाना पड़ा। कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए जेल भेजने के आदेश दे दिए हैं। करीब तीन साल से आरोपी बैंक अधिकारी कार्रवाई से बचने के लिए घूम रहा था। चंद्राचार्य चैक क्षेत्र के कंप्यूटर व्यवसायी विजय कुशवाहा ने कोतवाली ज्वालापुर में वर्ष-2013 में मुकदमा दर्ज कराया था। आरोप था कि देहरादून के राजपुर रोड पर साउथ इंडियन बैंक के प्रबंधक अमित परमार ने जालसाजी से हरिद्वार में उसके दो खातों से करीब ढाई करोड़ की रकम का गबन की थी।

कंप्यूटर व्यवसायी ने साउथ इंडियन बैंक के चार अधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी समेत प्रभावी धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने वर्ष-2014 में साउथ इंडियन बैंक शाखा देहरादून के प्रबंधक रहे अमित परमार (पुत्र कृष्ण पाल निवासी विकास नगर जिला भिवानी हरियाणा) के िखलाफ कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल किया था। तब से आरोपी कोर्ट में पेश नहीं हो रहा था। इस पर पीड़ित पक्ष ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी को 30 नवंबर तक हरिद्वार की अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की कोर्ट में पेश होने के आदेश दिए थे।

30 नवंबर को आरोपी अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रजनी शुक्ला की कोर्ट में पेश हुआ, जिसे कोर्ट ने जेल भेजने के आदेश दिए। वादी पक्ष के अधिवक्ता अविनाश शर्मा ने बताया कि बैंक अधिकारी को जेल भेज दिया है। कंप्यूटर व्यवसायी ने मौजूदा समय में जनकपुरी दिल्ली के साउथ इंडियन बैंक में तैनात रहे अमित परमार के खिलाफ हरिद्वार कोतवाली में भी करीब 19 करोड़ की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया हुआ है जो मौजूदा समय में हाईकोर्ट में विचाराधीन है।

Facebook Comments

Random Posts