भाई-भाई मिल बैठेंगे, तो हो जाएगा बंटवारा

tri

 

देहरादून / उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के बीच पिछले सोलह सालों से सिंचाई, औद्योगिक विकास, ग्राम विकास, गृह एवं पंचायती राज समेत लगभग एक दर्जन महकमों की परिसंपत्तियों के बंटवारे पर पड़ी गांठ रविवार को खुल सकती है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से मुलाकात के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत रविवार को लखनऊ पहुंच रहे हैं।

हालांकि पद संभालने के बाद दोनों मुख्यमंत्री पहली बार औपचारिक रूप से बैठक करेंगे, लेकिन तय है कि इस दौरान मुख्य मुद्दा दोनों राज्यों के बीच परिसंपत्तियों का बंटवारा ही रहेगा। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुताबिक, अब दोनों राज्यों के बीच अनुकूल माहौल है और काफी समय से लटके पड़े इस मुद्दे का जल्द समाधान हो जाएगा।

उत्तराखंड के उत्तर प्रदेश से अलग राज्य बनने के बाद से यह पहला मौका है जब दोनों राज्यों में किसी एक ही पार्टी, भाजपा की सरकार है। यही नहीं, वर्तमान में केंद्र में भी भाजपानीत राजग सरकार आसीन है। फिर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी भी मूलरूप से उत्तराखंड के ही हैं, लिहाजा उनका इस मामले में सकारात्मक दृष्टिकोण होना लाजिमी है।

Facebook Comments

Random Posts