देहरादून में पेंशन में फर्जीवाड़ा आया सामने

fraud2500-copy-jpg123

उत्तराखंड में गरीबों के नाम पर दी जा रही वृद्ध, विधवा व दिव्यांग पेंशन में देहरादून में फर्जीवाड़ा सामने आया है। समाज कल्याण विभाग की लापरवाही के चलते अकेले दून में एक हजार लोग फर्जी तरीके से पेंशन ले रहे हैं इससे समाज कल्याण विभाग की कार्यशैली पर सवाल उठना लाजमी हो जाता है। शासन के निर्देश पर हुई सीबीएस बैंक खातों की जांच में एक महीने के भीतर देहरादून में एक हजार फर्जी पेंशनर्स सामने आए हैं। ये अलग-अलग नाम व बैंकों के माध्यम से दो-दो पेंशन प्राप्त कर रहे हैं हालांकि अभी शासन ने इनकी सूची जारी नहीं की है, परंतु प्रथम चरण में 25 लाख रुपये का रिकवरी नोटिस जारी कर दिया गया है। था। शासन अभियान पूरा होने के बाद इन नामों को सार्वजनिक करेगा।

गौरतलब है कि अभी तक लोगों को पेंशन डाकघर, मिनी बैंक व मनीआॅर्डर के द्वारा मिल रही थी लेकिन दो साल पहले शासन ने सभी पेंशनधारकों को अपने खाते सीबीएस ब्रांच में खुलवाने के निर्देश दिए थे। अब एक महीने पहले विभाग ने खातों की जांच की, जिसमें अकेले दून में एक हजार लोग ऐसे मिले, जो या तो अलग-अलग नाम से दो-दो पेंशन ले रहे थे या फिर दो-दो बैंकों में खाते खुलवाकर सरकार को चूना लगा रहे थे इनमें कई ऐसी महिलाएं भी सामने आईं, जो विधवा के साथ वृद्धावस्था पेंशन का भी लाभ ले रही थीं। उदाहरण के तौर पर माना कि विकासनगर में एक पेंशन राजेंद्र कुमार सिंह के नाम थी तो वही व्यक्ति आरके सिंह के नाम से दूसरी पेंशन ले रहा था।

फिलहाल ये आंकड़ा अकेले देहरादून का है, लेकिन शासन ने पूरे राज्य में इस तरह से जांच करने की तैयारी शुरु कर दी है और जल्द ही शासन पूरे राज्य में अभियान चलाने के निर्देश जारी करेगा।

Facebook Comments

Random Posts