सीएम योगी के खिलाफ प्रदर्शन, नारेबाजी, पढ़िए पूरा मामला

 

 

adityanath-yogi

– मेडिकल कालेज में एमपी, एमएलए और कमिश्मर को सिक्यॉरिटी ने रोका

मेरठ।  उत्तर प्रदेश के मेरठ के शेरगढ़ी में दलितों का गुस्सा भड़क गया। उन्होंने सीएम योगी के खिलाफ जमकर नारेबाजी और तोड़फोड़ की। बीजेपी के होर्डिंग तोड़ दिए, एक शराब के ठेके पर हमला बोल दिया। यह पूरी घटना भीमराव अंबेडकर की एक मूर्ति पर योगी के द्वारा माल्यार्पण नहीं करने की वजह से हुई।

दरअसल, सीएम योगी जिस मलिन बस्ती शेरगढी में लोगों का दर्द जानने गए थे, उसके ठीक बाहर डाक्टर अंबेडकर पार्क हैं उसमें एक बड़ी प्रतिमा लगी हैं। योगी उसके पास से गुजरे लेकिन मार्ल्यापण नहीं कर सके। अफसरों की तरफ से बनाए गए प्रोग्राम में भी मार्ल्यापण करना तय नहीं था। इस तरफ किसी बीजेपी नेता और अफसर का भी शायद ध्यान नहीं गया। जबकि दलितों को उम्मीद थी कि सीएम प्रतिमा पर मार्ल्यापण करने जरूर आएंगे। इसलिए कुछ दलित अपनी बात वहां कहने के लिए भी इकट्ठा थे। जैसे ही प्रतिमा के पास से सीएम कार में बैठकर गुजरे, वहां एकत्र युवा दलितों नें नाराजगी फैल गई।

प्रदर्शनकारियों ने नारेबाजी शुरू कर दी। सीएम को अंबेडकर विरोधी बताते हुए बस्ती में काफी देर तक योगी के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। उसके बाद युवा जुलुस के तौर पर बस्ती के बाहर वीपीएल माल के रोड पर आ गए। भीड़ ने वहां जाम लगा दिया। कुछ युवाओं ने एक दो वाहन में तोड़फोड़ कर दी, जिससे भगदड़ मच गई। भीड़ में से कुछ युवाओं ने पास से शराब के ठेके पर हमला बोल दिया। काफी शराब की बोलत भी उठा कर ले गए। पुलिस ने पहुंचकर भीड़ को भगाया और हालात सामान्य किए।
——-

मेडिकल में एमपी,एमएल-कमिश्मर को सिक्यॉरिटी ने रोका

मलिन बस्ती से सीएम मेडिकल कालेज में निरीक्षण के लिए पहुंचे। उनके साथ मंत्री स्वास्थ्य मंत्री और मेरठ जिले के प्रभारी सिद्धार्थनाथ सिंह भी थे। मेडिकल कालेज में ट्रामा सेंटर में अंदर जाने को लेकर सांसद राजेंद्रyogi-adityanath अग्रवाल और दो विधायकों को सीएम की सिक्योरिटी ने रोक दिया। सांसद की उनसे झड़प हो गई। वह तब अंदर जा सके। इसी दौरान मेरठ मंडल के कमिश्नर प्रभात कुमार को भी सिक्योरिटी ने बाहर ही रोके रखा। काफी देर बाद उनको अंदर जाने के आदेश प्राप्त हुए।

Facebook Comments

Random Posts