संसद के शीतकालीन सत्र में घमासान होने की उम्मीद

0

नोटबंदी के खिलाफ विपक्ष एकजुट
बुधवार से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। संसद के इस सत्र में नोटबंदी के मुद्दे पर सरकार के विरोध में विपक्ष एकजुट नजर आ रहा है और ऐसे में सरकार को भी अपनी रणनीति मजबूत तरीके से रखनी होगी। संसद सत्र से पहले मंगलवार को सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है।
नोटबंदी के फैसले पर समूचा विपक्ष एकजुट दिख रहा है। इस बीच सोमवार को यूपी के गाजीपुर की अपनी जनसभा में पीएम मोदी ने नोटबंदी के फैसले को कड़क चाय की तरह बताया। प्रधानमंत्री ने एनडीए की बैठक में साफ कर दिया कि फैसले पर पीछे हटने का कोई सवाल ही नहीं होता और जनता सरकार के फैसले के साथ है।

समूचा विपक्ष एकजुट
नोटबंदी के सरकार के फैसले पर समूचा विपक्ष एकजुट है और जनता को हो रही दिक्कतों का मुद्दा उठाकर विपक्ष सरकार को घेरने में जुटा है। 16 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार को घेरने के लिए तमाम विपक्षी दल अपनी रणनीति बनाने में जुटे हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस मुद्दे पर काफी मुखर हैं। इस मामले पर कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, समाजवादी पार्टी और बीएसपी समेत तमाम विपक्षी दल एक सुर में बात कर रहे हैं।

सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक
संसद के शीतकालीन सत्र से एक दिन पहले सरकार ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। इस बैठक में 500-1000 के नोटों पर बैन, पीओके में सैन्य कार्रवाई, कश्मीर के हालात, जीएसटी जैसे मुद्दों पर चर्चा हो सकती है।

कांग्रेस की भी अहम बैठक
इस बीच, कांग्रेस ने सोनिया गांधी के निवास 10 जनपथ पर बैठक बुलाई है जिसमें सरकार को संसद में घेरने के लिए रणनीति बनाई जाएगी। कांग्रेस का दावा है कि इस बैठक में कई विपक्षी पार्टियां मौजूद रहेंगी। संसद का सत्र ठीक से चले इसके लिए लोकसभा स्पीकर ने सोमवार को सभी दलों की बैठक बुलाई थी।

Facebook Comments

Random Posts