15 दिन में हरिद्वार-दून हाईवे होगा अतिक्रमण मुक्तः डीएम

जिलाधिकारी दीपक रावत ने सरकार की ओर से अधिग्रहित की गई भूमि पर किए गए अतिक्रमण का स्थीलय निरीक्षण किया। डीएम ने हाईवे किनारे कई संस्थानों पर अतिक्रमण पाया। उन्होंने 15 दिन में अतिक्रमण चिन्हित कर तोड़ने के निर्देश दिए। साथ ही दूधाधारी के पास स्थित एक मंदिर को भी तोड़ने के आदेश दिए। जिलाधिकारी दीपक रावत ने हरिद्वार देहरादून नेशनल हाईवे का स्थलीय निरीक्षण शुरू किया। निरीक्षण की शुरुआत पावन धाम चैक से की गई।

निरीक्षण के दौरान मेयर मनोज गर्ग ने बताया कि एनएच ने ड्रेनेज के लिए बनाये जा रहे नाले को संकरा तथा लेवल सड़क से ऊंचा कर दिया गया है। इस पर एनएचआई के अफसरों ने बताया कि पहले नाला सड़क के एक ही ओर हुआ करता था, इसलिए बड़े नाले की जरूरत थी, वर्तमान कार्यों के के दौरान हाईवे के दोनों ओर अंडर ग्रांउड नाला बनाया जा रहा है, जिससे दबाव को संतुलित बना रहेगा। सड़क का बरसाती पानी नाले में जाए इसके लिए खुले स्थान छोड़े जायेंगे। नाले के बंद होने या भरने पर उसकी सफाई की जा सके इसके लिए जगह-जगह ढक्कन लगाये जा रहे हैं।

डीएम पावन धाम चैक से आगे बढ़े तो सरकार द्वारा अधिग्रहण की गई जमीन पर कई जगह अतिक्रमण दिखा। जमीन पर होटल, धर्मशाला और आश्रम द्वारा कब्जा किया गया था। इस पर उन्होंने ने एनएच के अधिकारियों और जिला प्रशासन द्वारा अभियान चलाकर अधिग्रहण की गई संपत्ति को अतिकमण मुक्त कराने की बात कही। कहा कि जिस भूमि को अधिग्रहण कर मुआवजा निर्धारित कर दिया गया है, उन सभी को हर हाल में  कब्जे छोड़ने होंगे। डीएम ने एनएच अधिकारियों को हाईवे निर्माण के कारण सड़क पर बने खतरनाक गड्ढों को भी भरने तथा खतरनाक स्थानों पर साइनेज लगाने और पेयजल की लाइनों के कारण पानी की सप्लाई में बांधा न आने देने के निर्देश दिये।

 

Facebook Comments

Random Posts