जेएनयू में जलाया गया रावण की जगह पीएम मोदी-अमित शाह का पुतला

jnu500

जेएनयू (जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी) में एनएसयूआई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, योग गुरु बाबा रामदेव, नत्थूराम गोडसे, योगी आदित्य नाथ, जेएनयू वीसी, साध्वी प्रज्ञा और आसाराम बापू के चेहरे पुतले पर लगाकर जलाए।

खबरों के अनुसार जेएनयू में कांग्रेस समर्थित छात्र संगठन एनएसयूआई के कुछ छात्रों ने मंगलवार की रात दशहरा पर रावण की जगह कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और योग गुरु बाबा रामदेव सहित उनके तमाम सहयोगियों का पुतला फूंका, और सिर्फ इतना ही नहीं इस घटना का वीडियो बनाकर इसे फेसबुक पर भी पोस्ट कर दिया गया है। वहीं, इस मामले को लेकर सियासत भी गरमा गई है और इस पर सियासी घमासान मच गया है।

यह पुतला जेएनयू कैंपस के पास स्थित सरस्वती ढाबे के नजदीक जलाया गया। छात्रों का कहना है कि इन्हें बुराइयों के प्रतीक के रूप में मानकर ऐसा किया गया। वहीं, इस मामले को लेकर सियासत भी गरमा गई है और इस पर सियासी घमासान मच गया है। बीजेपी ने मांग की है कि सोनिया गांधी इसके लिए माफी मांगे। इसके साथ ही बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने केस दर्ज करने की मांग की है। भाजपा नेता नलिन कोहनी से इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने कहा कि ऐसा काम समाज में दरार पैदा करने वाला है।

जेएनयू की एनएसयूआई के अध्यक्ष सन्नी धीमान का कहना है कि हमारा ये विरोध प्रदर्शन गौरक्षा के नाम पर यूथ फोरम फॉर डिस्कशंस एंड वेलफेयर एक्टिविटीज (ल्थ्क्।) को निशाना बनाने के खिलाफ है. यह प्रदर्शन गौ रक्षा के नाम पर मुस्लिमों और दलितों पर अत्याचारों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे ल्थ्क्। के सदस्यों को नोटिस जारी करने के जेएनयू प्रशासन के फैसले के खिलाफ था।

Facebook Comments

Random Posts