भारत के तिरंगे का अपमान जूतों के डिब्बों मैं पैकिंग

चीन निर्मित जूतों के डिब्बों में भारत का तिरंगा, बवाल ! रूद्रपुर से अल्मोड़ा पहुंची जूतों की खेप

 

  उत्तराखंड /अल्मोड़ा

यहां धारानौला को जाने वाले मार्ग में बावनसीढ़ी के पास एक प्राइवेट स्कूल के सामने एक जूते की दुकान में चीन निर्मित जूतों की एक खेप आई है, जिसके पैकिंग वाले डिब्बों में तिरंगा बना हुआ है। भारत के राष्ट्रीय ध्वज के अपमान के मामला प्रकाश में आते ही हड़कंप मच गया और काफी संख्या में लोग दुकान के बाहर एकत्रित हो गये। मौके की नजाकत को देखते हुए पुलिस फोर्स भी दुकान पर पहुंच गयी और एसएसपी ने तिरंगे का निशान बने जूतों की पूरी खेप जब्त करने के निर्देश दे दिये।
मिली जानकारी के अनुसार बावनसीढ़ी के निकटवर्ती बोरा शू कलेक्शन (कूर्मांचल एकेडमी के सामने) में गत दिनों पैकिंग में मेड इन चाइना जूतों की एक खेप आई। जब जूतों का यह डिब्बा खोला गया तो उसमें हर पैकिंग में ऊपर की ओर तिरंगा बना दिखाई दिया। इस मामले की जानकारी जैसे ही मीडिया कर्मियों को मिली तो वह इस प्रतिष्ठिान में पहुंच गये। इस बीच किसी ने मामले की सूचना पुलिस को भी दे दी। पुलिस ने दल-बल के साथ मौके पर आकर इस प्रतिष्ठान में पहुंचे जूतों की जांच की। इसमें पाया गया कि यह मेड इन चाइना लिखे जूते हैं, जिनमें पैकिंग के दौरान तिरंगा बना हुआ है। इधर एसएसपी पी रेणुका देवी ने कहा कि यह जूते रूद्रपुर के तमन्ना फुट वियर नामक सप्लायर से आये हैं। इन जूतों की पैकिंग के टाॅप में भारत के राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को बनाया गया है, जो पहली नजर में ही तिरंगे का अपमान साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस दुकान में रखे इस प्रकार के सभी जूतों (एक पेटी) को जब्त किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि रूद्रपुर स्थित तमन्ना फुट वियर में भी जांच की जायेगी। इसमें यह मालूमात किया जायेगा कि आंखिर तमन्ना फुट वियेर के पास इस तरह के जूते कहां से आये हैं। इधर स्थानीय नागरिकों मंे भी इस घटना को लेकर तीव्र रोष है। लोगों का कहना है कि डोकलाम विवाद के बाद चीन घटिया हरकतों पर उतर आया है। चीन निर्मित जूते के डिब्बे में भारत का तिरंगा बनाकर देश का घोर अपमान किया गया है। पुलिस को इस मामले को हल्के में नहीं लेना चाहिए। यदि इस तरह के जूते अल्मोड़ा में आये हैं तो जाहिर सी बात है कि यह बहुत सी अन्य जिलों की जूता दुकानों में भी गये होंगे। पुलिस को तमाम फुटवियर दुकानों में छापेमारी करके इस प्रकार के चीन निर्मित जूतों को जब्त करना चाहिए। इधर समाचार लिखे जाने तक पुलिस इस मामले में सुसंगत धाराओं में एफआईआर लिखने की तैयारी कर रही थी।

साभार  उत्तरांचल  दीप

Facebook Comments

Random Posts