देहरादून में अंतरराष्ट्रीय किडनी रैकेट का खुलासा, दलाल गिरफ्तार पढ़िए कहाँ

 

हरिद्वार हाईवे पर रेशम माजरी में स्थित उत्तरांचल डेंटल कॉलेज में चल रहे गंगोत्री चेरिटेबल हॉस्पिटल में अंतरराष्ट्रीय किडनी रैकेट संचालित होने का खुलासा हुआ है। पुलिस ने एक दलाल को गिरफ्तार कर लिया है।

 

  उत्तराखंड /देहरादून/हरिद्वार

हरिद्वार हाईवे पर रेशम माजरी में स्थित उत्तरांचल डेंटल कॉलेज में चल रहे गंगोत्री चेरिटेबल हॉस्पिटल में अंतरराष्ट्रीय किडनी रैकेट संचालित होने का खुलासा हुआ है। पुलिस ने एक दलाल को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही दो लोगों की किडनी निकाले जाने की पुष्टि भी की है। हालांकि, इस मामले में मुख्य आरोपी डॉ. अमित रावत फरार है।
एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि रविवार-सोमवार की मध्य रात्रि अस्पताल में किडनी निकालने के लिए चार लोगों को लाया गया। इनके नाम कृष्णा दास निवासी पौजावड पोस्ट राम सुन्दरपुर जिला मेहन्दीपुर, पं. बंगाल, शेखताज अली निवासी, वासुदेव पुर, कंचा रोड दक्षिण परगना पं. बंगाल, भाव जी भाई निवासी प्रजापति कलामू ग्राम सिन्धाली, थाना मोहोदा, जिला खेड़ा, गुजरात और सुसामा बनर्जी निवासी हल्दर औबजान पारा शहजादा पुर जोय नगर दक्षिण, 24 परगना शामिल थे। इन लोगों को यहां पहुंचाने का काम ग्रीन पार्क सोसाइटी, एसजी स्कूल एसबी रोड, सांताकुंज मुंबई निवासी जावेद खान ने किया।

तीन–तीन लाख रुपये मिलने थे किड़ने के बदले

जावेद ने चारों को किडनी के बदले तीन-तीन लाख रुपये दिलाने का वादा किया था। यहां पहुंचने पर कृष्णा दास और शेखताज अली की किडनी निकाली गई। लेकिन भाव जी भाई और सुसामा ने बिना रकम लिए किडनी ट्रांसप्लांट से इनकार कर दिया। इस पर दोनों ने अस्पताल में शोर मचा दिया। पोल खुलने की डर से अस्पताल प्रशासन ने इन चारों को जावेद खान के साथ दिल्ली रवाना कर दिया। इस बीच देहरादून और हरिद्वार की पुलिस अलर्ट हो चुकी थी। पुलिस ने इन्हें हरिद्वार बार्डर पर रोकने को कहा तो जावेद गाड़ी से उतरकर भागने लगा, उसे पुलिस ने तुरंत ही दबोच लिया। एसएसपी ने बताया कि इस मामले में किडनी ट्रांसप्लांट करने में डॉ. अमित रावत का नाम सामने आया है। जो फरार चल रहा है।

 

अस्पताल में मिले टिकट, अंतरराष्ट्रीय गैंग सक्रिय 

एसएसपी ने बताया कि घटनास्थल से ओमान के हवाई टिकट मिले हैं, जिससे प्रतीत होता है कि सम्भवत: किडनी की खरीद-फरोख्त अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी की जा रही है। पुलिस द्वारा घटनास्थल पर स्वास्थ्य विभाग और फॉरेंसिक एक्सपर्ट की टीमों की मदद ली जा रही है। साथ ही मामले में अस्पताल और अन्य स्टाफ की मिलीभगत की जांच की जा रही है।

साभार  हिंदुस्तान

Facebook Comments

Random Posts