किस मंत्री का गुर्गा कर रहा उत्तराखंड प्रेस क्लब की कैंटीन पर कब्जा!…………..पढ़िए खबर

एक तरफ सरकार पत्रकार के हितों के लिए बात करती है और वहीं एक मंत्री के दबाव में प्रेस क्लब की कैंटीन को फ्री होल्ड कराने के लिए कबीना मंत्री का दबाव आखिर क्यों? देहरादून में उत्तराखंड प्रेस क्लब जो कि 29 मई 1998 से चल रहा है जिसमें पत्रकारों के जलपान के लिए कैंटीन का शिलान्यास भी किया गया था लेकिन अब प्रेस क्लब के कार्यकारिणी के द्वारा संज्ञान में आया है कि इस कैंटीन पर कब्जा किया जा रहा है आवास विभाग के निर्देश पर एमडीडीए ने राकेश डोभाल नामक व्यक्ति के पक्ष में फ्री होल्ड करने हेतु धनराशि जमा करने को कहा गया है जिस पर उत्तराखंड प्रेस क्लब में पत्रकार और सरकार के बीच टकराव की बुनियाद रखने वाली स्थिति बताई है।

ccc500

आवास विभाग अथवा एमडीडीए की ओर से इस मामले में न केवल नियमों को ताक पर रखा गया है अपितु प्रेस क्लब का पक्ष भी नहीं सुना गया है जिससे उत्तराखंड के प्रेस क्लब कार्यकारिणी तथा अन्य पत्रकारों में रोष है। प्रेस क्लब के अन्दर लगभग तीन सौ से चार सौ पत्रकार आते-जाते हैं और उनके जलपान गृह को किसी को सौंपे जाने पर बताया जा रहा है कि एक कैबिनेट मंत्री का हाथ है। जब शंखनाद टुडे टीम ने जानने की कोशिश की तो पत्रकार दबी आवाज में इंदिरा ह्रदयेश का नाम ले बैठे।

pr500
उत्तरांचल प्रेस क्लब के सदस्यों में शासन, आवास विभाग और एमडीडीए के प्रति इस पूरे घटनाक्रम के बाद जबरदस्त आक्रोश है इस मामले में राकेश डोभाल नामक व्यक्ति के खिलाफ डालनवाला थाने में प्रेस क्लब की संपत्ति को खुर्द-बुर्द करने के षडयंत्र का मुकदमा भी दर्ज कराए जाने की तहरीर दी गई है। पत्रकारों में इस बात को लेकर काफी रोष था कि जहां सारे प्रदेश की जमीनों को बेचा जा रहा है, क्या अब प्रेस क्लब की कैंटीन को फ्री होल्ड कर राकेश डोभाल को देने से सरकार को क्या लाभ मिल रहा है इस बात को लेकर पूरे प्रदेश के पत्रकारों में जबरदस्त रोष है और उत्तरांचल प्रेस क्लब के सदस्यों ने यह तक कह डाला कि यदि सरकार इस पर अमल नहीं करेगी तो मुख्यमंत्री आवास पर धरना प्रदर्शन करने के लिए भी सदस्य , पत्रकार बाध्य होंगे और जिसकी सारी जिम्मेदारी हरीश रावत सरकार की होगी।

Facebook Comments

Random Posts