एन चंद्रशेखरन बने टाटा संस के नए चेयरमैन

                                                 chandrasheker500 टाटा संस के चेयरमैन को लेकर सस्पेंस खत्म हो गया है। टीसीएस के सीईओ एन चंद्रशेखर अब ग्रुप के नए एक्जिक्यूटिव चेयरमैन होंगे। एक बार फिर कंपनी ने भीतरी आदमी पर भरोसा लेकिन ऐसा करते हुए अपने 150 सालों से चली आ रही परंपरा को भी तोड़ा है। चंद्रशेखरन कंपनी के पहले गैर पारसी चेयरमैन होंगे। सायरस मिस्त्री की विदाई के बाद टाटा संस के बोर्ड में जगह दिए जाने के बाद से ही उनके चेयरमैन बनने के कयास लगाए जा रहे थे। टीसीएस का शानदार प्रदर्शन उनके चयन की अहम वजह रही है। चंद्रशेखरन के नेतृत्व में टीसीएस की आय और मुनाफा 3 गुना से ज्यादा बढ़ा। इसके अलावा रतन टाटा से नजदीकी और नेतृत्व क्षमता चंद्रशेखरन के चुनाव की बड़ी वजह रही हैं। टीसीएस में उनकी जगह राजेश गोपीनाथन को नया सीईओ बनाया है।

 

नए चेयरमैन की नियुक्ति पर बयान जारी करते हुए टाटा संस ने कहा है कि एन चंद्रशेखरन ने अभूतपूर्व नेतृत्व क्षमता दिखाई है। कंपनी ने उम्मीद जताई है कि वे टाटा ग्रुप के लिए प्रेरणा के स्रोत बनेंगे।

 

एन चंद्रशेखरन, टाटा ग्रुप का एक भरोसेमंद नाम है। वैसे चंद्रशेखरन का टाटा ग्रुप में 30 साल लंबा कैरियर उपलब्धियों से भरा रहा है, इसलिए शायद चेयरमैन की तलाश में तमाम नामों के बीच उनका नाम सबसे ऊपर रहा।

 

नटराजन चंद्रशेखरन, टीसीएस की कस्टमर केंद्रित संस्कृति और  कस्टमर के साथ लंबी पार्टनरशिप का प्रतिनिधित्व करते हैं। चंद्रा को नई टेक्नोलॉजी पर बड़ी बाजी लगाने वाले एक टेक्नो-आंत्रप्रेन्योर के तौर पर जाना जाता है। इनके नेतृत्व में टी सीएस ने लंबे समय से डिजिटल इकोनॉमी में अपनी मजबूत पकड़ बनाए रखी है। क्लायंट के बढ़ते आकार और नई-नई जरूरतों के साथ तालमेल बनाने का ये काम बेहद चुनौतीपूर्ण माना जाता है।

 

मूल रूप से तमिलनाडु के मोहनूर के चंद्रशेखरन ने एनआईटी त्रिची से एमसीए किया है। 1987 से वो टीसीएस का हिस्सा हैं। लंबे वक्त तक कंपनी के सीओओ और एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर रहने के बाद 2009 में उन्हें सीईओ बनाया गया। पिछले साल अक्टूबर में टाटा संस की नाटकीय घटनाओं के बाद एन चंद्रशेखरन को टाटा संस बोर्ड में एडिशनल डायरेक्टर के रूप में जगह देकर टाटा संस ने भविष्य के संकेत दे दिए थे।

 

एन चंद्रशेखरन के टाटा संस का चेयरमैन बनते ही बिजनेस जगत में उनके लिए बधाइयों का सिलसिला शुरू हो गया है। कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी उदय कोटक ने कहा कि चंद्रशेखर एक अच्छे प्रोफेशल हैं, ये खबर सुनकर अच्छा लग रहा है। चंद्रशेखर को इसके लिए बधाई। वहीं भारती ग्रुप के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ने कहा कि चंद्रशेखर एक अच्छी पसंद है, चंद्रशेखर टीसीएस से जाने जाते हैं।

 

एक खबर ये भी है कि टीसीएस के मौजूदा सीएफओ राजेश गोपीनाथ को टीसीएस का नया सीईओ बनाया गया है। इस बात का औपचारिक एलान हो गया है। बता दें कि राजेश गोपीनाथन साल 2001 में टीसीएस से जुड़े। साल 2013 में टीसीएस के सीएफओ बने। राजेश गोपीनाथन ने 1994 से एनआईटी तिरुचि से इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की फिर आईआईएम अहमबदाबाद से मैनेजमेंट में डिप्लोमा किया। 1971 में मुंबई में इनका जन्म हुआ।

 

टीसीएस के नए सीईओ राजेश गोपीनाथन ने भरोसा दिया है कि एन चंद्रशेखरन के गाइडेंस में कंपनी ने अच्छा काम किया और आगे भी कंपनी शानदार प्रदर्शन करेगी। उन्होंने कहा उनके टाटा संस के चेयरमैन बनने से कंपनी में कोई बड़ा बदलाव नहीं होने जा रहा है।

Facebook Comments

Random Posts