व्यक्तित्व विकास का माध्यम है राष्ट्रीय सेवा योजना

p5

हरिद्वार/  देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के 300 छात्र-छात्राओं के सात दिवसीय एनएसएस का शिविर का आज समापन हो गया। शिविर में अनेक प्रकार की सामाजिक जागरुकता के कार्यक्रम हुए।शिविर समन्वयक डाॅ अरूणेश पाराशर ने बताया कि कैम्प स्थल कटारपुर हरिद्वार में प्रथम दो दिन स्वच्छ भारत अभियान को समर्पित था। इसके तहत ग्रामीणों के साथ पूरे गांव की सफाई की गई। शिविर के दौरान नमामि गंगे कार्यक्रम में चुने गए ग्राम अजीतपुर मठ और विशनपुर कुंडी में भी जागरुकता अभियान चलाया गया। सर्वेक्षण अभियान के क्रम मे निकटवर्ती गांवों-बहादुरपुर जट, चांदपुर, जियापोता, मिस्सरपुर आदि में स्वच्छ भारत अभियान में सहयोग करने हुए प्रेरित किये गये। साथ ही मौलिक अधिकार, नारी जागरण, बेटी बचाओ, स्वास्थ्य, पर्यावरण, साक्षरता, रोजगार, राशन कार्ड, वोटर कार्ड, बिजली, परिवहन, बैंक खाता, जल व्यवस्था, बाल विकास योजना, आधार कार्ड, शिक्षण सहित कई बिंदुओ को लेकर अभियान चलाया गया। शिविर के दौरान दस गांवों में विशेष सर्वे अभियान एवं दो गांवों में स्वच्छता अभियान चलाया गया। इस दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम में डस्टबिन की वेदना, कठपुलती नृत्य, नुक्कड नाटक, सफाई पर डाक्यूमेंट्री, भ्रष्टाचार जीने नहीं देगा आदि संवेदनात्मक गीत के साथ-साथ बहुरंगी सांस्कृतिक संध्या ने ग्रामीणों को विकास की राह दिखायी। शिविर में विद्यार्थियों के बीच पहुँचे कुलाधिपति डाॅ प्रणव पण्डया ने विवि के छः इकाइयों के कैम्प को व्यक्तित्व विकास का एक महत्वपूर्ण शिविर बताया। कुलाधिपति ने छात्र-छात्राओं को सेवा के माध्यम से आत्म निर्माण हेतु मार्गदर्शन दिया।

कार्यक्रम अधिकारी डाॅ मोनिका पाण्डेय, डाॅ उमाकांत इंदौलिया, डाॅ अंजली भारद्वाज, अवनेन्दु पाराशर पाण्डेय का विशेष योगदान रहा। समापन सत्र का मंच संचालन भृगु बग्गा एवं श्वेता पाण्डेय ने तथा आभार डाॅ मोनिका ने व्यक्त किया। कार्यक्रम में प्रखर सिंह पाल, प्रसून कुमार, विपुल कुमार, पल्लवी, रिया, दुवेन्दु, नरेन्द्र मकोडे, वृंदा गोयल, श्रेया अवस्थी, चंद्रमणी आदि की सक्रियता ने शिविर में चार चांद लगा दिया।

Facebook Comments

Random Posts