अब जल्द ही नया छात्रवृत्ति घोटाला आ सकता है सामने…

0

देहरादून।  देवभूमि उत्तराखंड घोटालों की दलदल में फंसा है। एक के बाद एक उजागर हो रहे घोटालों से लग रहा है। टैक्सी बिल, जमीन मुआवजा और वन विभाग के बाद अब समाज कल्याण विभाग के छात्रवृत्ति घोटाले का जिन्न जल्द ही बाहर आने वाला है। जनता दरबार में फर्जी छात्रवृत्ति की शिकायतें मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने इसकी फाइल तलब कर ली है। फर्जी छात्रवृत्ति की जांच के लिए बनाई गई समिति ने अपनी रिपोर्ट में करीब 10 करोड़ रुपये के घोटाले की पुष्टि की है।  प्रदेश का समाज कल्याण विभाग ने उत्तर प्रदेश और दूसरे राज्यों के आईटीआई में पढने के लिए छात्रों को छात्रवृत्ति दी, लेकिन सच्चाई में न तो किसी छात्र ने वहां प्रवेश लिया और न ही पढ़ाई की। समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत से ऐसे लोगों को छात्रवृत्ति दी गई जो अस्तित्व में ही नहीं हैं। पिछले साल से ही इसकी शिकायतें आ रही थीं।  प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी इस मामले का संज्ञान लिया था। इसके बाद तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इसकी जांच कराई तो विभागीय मिलीभगत सामने आई थी। शुरुवाती जांच में करीब 10 करोड़ रुपये के घोटाले की बात सामने आई थी। आशंका यह जताई जा रही है कि यह घोटाला तकरीबन सौ करोड़ के आसपास का हो सकता है। यदि सरकार ने इस मामले में ईमानदारी से जांच कराई तो समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों के साथ ही कुछ बड़े नाम भी सामने आ सकते हैं।

Facebook Comments

Random Posts