अब माॅडम बतायेगा विद्युत कटौती की वजह

mo500

आम आदमी के लिए एक अच्छी खबर है कि तकनीकी के युग में अगर आपके घर की बिजली जाती है तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है अब एक ऐसा माॅडम विकसित किया गया है कि जो आपकी विद्युत कटौती की वजह बताएगा। सभी के घरों में बिजली का प्रयोग होता है और इसका उपयोग किस तरह होता है इसकी जानकारी भी अब आम लोगा तक पहुंचेगी, जो कि सर्वर से जुड़ा होगा। किस ग्रामीण क्षेत्र में कितनी देर तक बिजली गुल रही, अब इसका सटीक पता चल सकेगा। इसके लिए रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कार्पाेरेशन (आरईसी) ग्रामीण क्षेत्र के हर फीडर पर माॅडम लगाएगा, जो सर्वर से जुड़ा होगा।

ये माॅडम किसी भी क्षेत्र में पांच मिनट से ज्यादा बिजली गुल होने पर उसकी रिपोर्ट सीधे आरईसी को भेजेंगे। फीडरों पर माॅडम लगने के बाद उत्तराखंड पावर कार्पाेरेशन लिमिटेड (यूपीसीएल) की असलियत भी सामने आ जाएगी कि वह कितनी कटौती करता है और कितनी दर्शाता है। प्रदेशभर में ग्रामीण क्षेत्रों में 827 फीडर हैं। अभी तक इन फीडरों से होने वाली ट्रिपिंग का हिसाब-किताब मैनुअल ही रखा जाता है। यूपीसीएल के निदेशक मानव संसाधन एवं प्रवक्ता पीसी ध्यानी ने बताया कि पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर आरईसी शुरुआत में 50 फीडर पर माॅडम लगा रहा है। तीन कंपनियों को इसका जिम्मा दिया गया है। एक कंपनी ने माॅडम लगाना शुरू कर दिया है। उन्होंने बताया कि इससे सिस्टम में सुधार भी होगा और पारदर्शिता भी आएगी।

जहां ज्यादा ट्रिपिंग हो रही है, उस फीडर में सुधार किया जाएगा। सर्वर के माध्यम से आरईसी के साथ यूपीसीएल को भी इसकी रिपोर्ट मिलती रहेगी। उपलब्धियों का बखान करने के लिए यूपीसीएल ने एक गीत बनाया है। इसमें प्रदेश के हर क्षेत्र में 24 घंटे बिजली और व्यवस्थाएं दुरुस्त होने की बात कही गई है। कहा गया है कि उपभोक्ता की हर समस्या का समाधान त्वरित गति से किया जाता है। हालांकि, हकीकत तो उपभोक्ता जानते ही हैं। गीत लांच करने से पहले यूपीसीएल ने इसे वेबसाइट पर कार्मिकों की राय लेने के लिए अपलोड किया है।

Facebook Comments

Random Posts