पानी की समस्या को लेकर किया प्रदर्शन, उग्र आंदोलन की चेतावनी दी

 शुक्रवार को बागेश्वर जिला मुख्यालय में बीते चार दिनों से पानी का संकट गहराता जा रहा है। लोगों ने पानी के लिए प्रदर्शन किया। उन्होंने शीघ्र ही पानी की आपूद्दत न होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी। जिला मुख्यालय के मजियाखेत में पानी की समस्या ने विकराल रूप धारण कर लिया है। बीते चार दिनों से पानी न आने से लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। जिससे पांच हजार की आबादी सीधे प्रभावित हो रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि विभागीय लापरवाही से पानी की आपूद्दत बंद होना चिंताजनक है। मजियाखेत के लोगों ने शुक्रवार सुबह आठ बजे हाथ में खाली बर्तन लेकर प्रदर्शन किया।

गुस्साए लोगों ने कहा कि पानी का बिल लेट हो जाए तो विभाग हाय तौबा मचाना शुरू कर देता है। लेकिन पानी के बिना जनता किस हालत में है। विभाग को इसकी कोई परवाह नहीं है।  बागेश्वर जिले की दो प्रमुख योजनाएं क्षतिग्रस्त हो गई हैं। जिससे लोगों की समस्या बढ़ गई है। जखेड़ा पेयजल योजना बीते तीन दिनों से खराब चल रही है। पानी की टंकी में समस्या होने की वजह से आपूद्दत पूरी तरह से ठप किया गया है। उसी तरह मजियाखेत पेयजल योजना में तकनीकि खराबी के चलते समस्या हो रही है। जखेंड़ा पेयजल योजना का निर्माण सन 1980 में किया गया और मजियाखेत पेयजल योजना 2011 में बनाई गई। पानी की आपूद्दत न होने से जिला मुख्यालय के कई क्षेत्र प्रभावित हो रहे हैं। जिसमें मुख्य रूप से मंडलसेरा, कठायबाड़ा, द्यांगण, आरे, मजियाखेत आदि हैं। जिससे क्षेत्र की लगभग पांच हजार की आबादी प्रभावित है।

Facebook Comments

Random Posts