आन्दोलनकारियों को रोकने मैं नाकाम रही उत्तराखंड पुलिस

विधान सभा भवन भराड़ीसैंण का घेराव के लिए जाते हुए पुलिस के साथ धक्का-मुक्की व बेरिकेटिंग को तोड़ते हुए जबरदस्त विरोद्ध किया गया !इतिहास रचते इस बजट सत्र के दौरान ही जहां जनता गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने की मांग कर रही है, वहीं विपक्षी दलों ने भी इस मुद्दे को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस ने गैरसैंण में सरकार को घेरने का मोर्चा संभाल रखा तो उत्तराखंड क्रांति दल ने भराड़ीसैंण में स्थायी राजधानी की मांग को लेकर रास्ते जाम कर दिए हैं।

गैरसैंण /चमोली शंखनाद  टीम 
स्थायी राजधानी गैरसैंण घोषित करने  के लिए पूर्व  विधानसभा उपाद्यक्ष डॉ मैखुरी प्रदेश महिला अध्यक्ष सरिता आर्य के नेतृत्व में  क्षेत्र की जनता एवम् मातृ शक्ति के साथ   विधान सभा भवन भराड़ीसैंण का घेराव के लिए जाते हुए पुलिस के साथ धक्का-मुक्की व बेरिकेटिंग को तोड़ते हुए जबरदस्त विरोद्ध किया गया !इतिहास रचते इस बजट सत्र के दौरान ही जहां जनता गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने की मांग कर रही है, वहीं विपक्षी दलों ने भी इस मुद्दे को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कांग्रेस ने गैरसैंण में सरकार को घेरने का मोर्चा संभाल रखा तो उत्तराखंड क्रांति दल ने भराड़ीसैंण में स्थायी राजधानी की मांग को लेकर रास्ते जाम कर दिए हैं। एसपी चमोली की गाड़ी भी रोकी

गैरसैंण में आज से शुरू बजट सत्र के पहले ही दिन गोपेश्वर भराड़ीसैंण रास्ते को दिवालीखाल के पहले यूकेडी कार्यकर्ताओं ने जाम कर दिया, जिससे वहां से आगे कोई भी मीडियाकर्मी नहीं पहुंच पाया। ये पहला मौका है जब उक्रांद कूटनीति के तहत ऐसा प्रदर्शन कर रही है। जाम की स्थिति को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि यूकेडी के करीब 100 कार्यकर्ताओं ने बड़े सुनियोजित ढंग से ऐसे स्थान पर अपना धरना प्रारंभ किया जो भराड़ीसैंण स्थित विधानभवन से मात्र 6 किलोमीटर दूर है।परिस्थिति को देखते हुए वैसे तो वहां पर पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल मौजूद है और स्थिति को नियंत्रण में किए हुए हैं लेकिन यूकेडी कार्यकर्ताओं ने पिछला डेढ़ घंटे से कोई भी वाहन आगे नहीं जाने दिया है। यहां तक कि पुलिस और मीडियाकर्मियों के बार-बार आग्रह करने के बाद भी धरने पर बैठे यूकेडी कार्यकर्ताओं ने उनकी बात मानने से इनकार कर दिया है। यूकेडी ने मीडियाकर्मियों के साथ चमोली एसपी तृप्ति भट्ट की गाड़ी को भी रास्ते पर ही रोक दिया था। हालांकि, काफी मान-मनोव्वल के बाद एसपी की गाड़ी को आगे जाने दिया गया।
इस क्षेत्रीय दल के   कार्यकर्ताओं ने पहले अपनी इस मंशा को जाहिर नहीं किया था लेकिन सत्र के पहले ही दिन सरकार पर राजधानी की मांग को लेकर दबाव बनाने की कोशिश करते हुए रास्ते जाम कर दिए हैं।उत्तराखंड के गठन के बाद से ही प्रदेश का एकमात्र क्षेत्रीय दल यूकेडी अपने वजूद की तलाश में लगा हुआ है। हर चुनाव में मुंह की खा रहा ये दल खुद को स्थापित नहीं करने और मीडिया में सुर्खियों की वजह नहीं बन पा रहा था। खुद ही दो फाड़ से जूझ रही यूकेडी ने इस बार बड़ी ही सूझबूझ से खुद की ओर प्रदेश की पूरी मीडिया का ध्यान अपनी ओर केंद्रित कर लिया है। यूकेडी ने भराड़ीसैंण से होते हुए गैरसैंण विधानसभा पहुंचने के लिए सभी कार्यकर्ताओं के साथ

मिलकर कूच किया। इन्हे रोकने के लिए मौके पर भारी पुलिस बल तैनात रही। पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर कार्यकर्ताओं को विधानसभा पहुंचने से रोकने की कोशिश की। इस दौरान कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच जमकर धक्का-मुक्की हुई।
पुलिस बल भी मौके पर तैनात पिछले कई घंटों से यूकेडी ने एक भी वाहन को भराड़ीसैंण से आगे बढ़ने नहीं दिया था। परिस्थिति को देखते हुए मौके पर पुलिस बल भी पहुंची। अब यूकेडी धरने से उठकर विधानसभा कूच की ओर आगे बढ गई है। यूकेडी का कहना है कि पिछले 17 सालों में किसी भी सरकार द्वारा गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। जबतक गैरसैंण को स्थायी राजधानी घोषित नहीं किया जाता तबतक सरकार को पूरे प्रदेश में आंदोलन का सामना करना पड़ेगा।

Facebook Comments

Random Posts