चोपता मेले की तैयारियां जोरों पर 19 से शुरु होगा मेला

जगमोहन चोपता

चमोली  जिले  के नारायणबगड़ विकासखंड  के चोपता  मैं  हर साल मेला  लगता  है ,ऐतिहासिक चोपता मेले का काउण्ट डाउन शुरू हो गया है। मन्दिर कमेटी, महिला एवं युवक मंगलदलों की बैठकों का दौर जारी है। मेले की सुरक्षा से लेकर सफाई व्यवस्था का जिम्मेदारी गांव की महिला एवं युवक मंगलदलों के जिम्मे सौंपा गया है।
विदित हो कि 19 नवम्बर से 28 नवम्बर को कड़ाकोट क्षेत्र के चोपता गांव में ऐतिहासिक चोपता चौंरी मेले का आयोजन होना है। इसमें व्यवस्थाओं से लेकर हो रही तैयारियों में गांव की महिला-पुरूषों की सक्रिय भागीदारी रहती है। मंदिर परिसर के साथ ही पूरे गांव में रंगरोगन का काम जोरों पर है। महिला मंगल दल और युवक मंगल दल की टोलियां क्षेत्र के रास्तों की साफ सफाई करने में जुटी हैं।
मंदिर कमेटी अध्यक्ष अवतार सिंह सिनवाल का कहना है कि चोपता चौंरी मेले में रोजाना हजारों यात्री दर्शन के लिये आते हैं इसलिये कहीं भी उन्हें कोई असुविधा न हो इसकी सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। सभी उपसमितियों को काम बांटा जा चुका है वे अपने अपने स्तर पर इसकी बैठक कर तैयारियां कर रहे हैं।
मेले के दौरान पूरा गांव साफ-सुथरा और बेहतर लगे इसमें कोई कोर कसर न रहे इसके लिये महिला मंगल दल और युवक मंगल दल के सदस्य दिन रात लगे हैं। महिला मंगल दल अध्यक्षा आशा देवी ने बताया कि मेले से पहले गांव व मन्दिर के रास्तों की साफ-सफाई का काम अंतिम दौर में है वहीं मेले के दौरान सुरक्षा व्यवस्था के लिये महिलाओं के नामों का चयन व वह किस क्षेत्र में अवनी ड्यूटी देंगी इसकी तैयारियां हो चुकी है।
मेले के दौरान खेल एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिताओं की तैयारियों को लेकर जुटे युवक मंगल दल के अध्यक्ष का कहना है कि पूर्व के वर्षों की भाति इस बार भी मेले में बॉलीबॉल, रस्साकसी, चम्मच व जलेबी दौड़ का अयोजन किया जा रहा है। इसको लेकर क्षेत्र के सभी युवक मंगल दलों व महिला मंगल दल तैयारी कर रहे हैं।
ग्राम व्यवस्था समिति के अध्यक्ष गब्बर सिंह ने बताया कि मेले की तैयारी से लेकर मेला समापन के बाद मेला क्षेत्र की साफ-सफाई के लिये पूरे गांव के लोग श्रमदान करते हैं। इससे जहां गांव मे स्वच्छता रहती है वहीं गांव में सामुहिकता बढ़ती है।
Facebook Comments

Random Posts