योगा में एमए कर पूरन ने बनाया दर्जन भर डिग्रियों का रिकार्ड

मयंक मैनाली,

रामनगर पढने का जज्बा हो तो उम्र कोई मायने नहीं रखती कुछ इसी तर्ज पर रामनगर बार एसोसिएशन के पूर्व सचिव और पर्वतीय सभा के पदाधिकारी रहे पूरन चंद्र पांडे ने योग से एम.ए करने के साथ ही 12 वीं डिग्री हासिल की है | पांडे इससे पहले विभिन्न समाचार पत्रों में सम्पादक के नाम पत्र लिखकर सबसे अधिक पत्र लेखन का रिकार्ड भी बना चुके हैं| उनकी यह उपलब्धि गिनीज बुक में भी दर्ज हो चुकी है | पूरन पांडे (39) ने वर्ष 1998 में स्नातक किया था, इसके बाद से वह लगातार एम. ए कर रहे हैं| वर्ष 2000 में अर्थशास्त्र, 2002 में समाजशास्त्र से परास्नातक किया | इसके बाद उनके पढने का अभियान रूका नहीं| 2005 में एसएसजे परिसर अल्मोड़ा से एलएलबी 2007 में अल्मोड़ा से ही एलएलएम, 2008 में मानवाधिकार, 2010 में राजनीतिक विज्ञान से परास्नातक किया | 2012 में शिक्षाशास्त्र, 2013 में लोकप्रशासन, 2014 में इतिहास, 2015 में हिंदी में परास्नातक की डिग्री हासिल की| इसी साल उन्होंने उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय से एम.ए योग के परास्नातक के साथ बारहवीं डिग्री हासिल की है | यही नहीं पांडे इससे पहले पालीटेक्निक का डिप्लोमा भी कर चुके हैं | संभवतया पूरन चंद्र पांडे का पूरे उत्तराखंड में यह अपनी तरह का पहला रिकॉर्ड है| इसके आधार पर उन्होंने अपना नाम लिम्का बुक में दर्ज करवाने के लिए आवेदन भी किया है| पांडे का पढने का सिलसिला अब भी जारी है|पांडे ने उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय से एम.ए. पत्रकारिता में दाखिला लिया है | इस समय वह परीक्षाओं की तैयारी में जुटे हुए हैं | दस सालों से भी अधिक समय से वकालत से जुड़े पांडे क्षेत्र के सामाजिक सरोकारों से जुडे हुए हैं |

 

Facebook Comments

Random Posts