उत्तराखंड में बारिश का कहर, पांच लोगों की मौत


उत्तराखंड / देहरादून
उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश ने लोगों की परेशानियां बढ़ा दी हैं। लगातार हो रही बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। दून में बुधवार को हो रही बारिश से लोग घरों में कैद होने को मजबूर हो गए और लोगों को ऑफिस जाने के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। कई जगह नालियां बन होने से सड़कों पर जलभराव की समस्या हो गई। वहीं पिथौरागढ़, चमोली, अल्मोड़ा और देहरादून जिले में बादल फटने से खासा नुकसान हुआ है। कई घरों में मलबा घुस गया, जबकि खेतों में खड़ी फसल तबाह हो गई। इसके अलावा प्रदेश में देहरादून और पिथौरागढ़ जिले में पांच लोगों की मौत भी हुई है। ग्रामीण क्षेत्रों में सौ से ज्यादा संपर्क मार्ग बंद हो गए हैं। चार धाम यात्रा मार्गों पर मलबा आने से खुलने और बंद होने का क्रम जारी है। वहीं टिहरी जिले के आग्राखाल के पास रात से बेमुण्डा खाला उफान पर है जिससे ऋषिकेश टिहरी मार्ग की आवाजाही बंद है। ऋषिकेश से चम्बा की ओर आ रहे वाहनों की लगी लम्बी कतार से यात्री परेशान हैं। नेशनल हाईवे गंगोत्री मार्ग संगलाई मे भारी बारिश से बाधित हो गया है और यमनोत्री मे ओरछा बैड व सयानाचटी मे मार्ग बाधित होने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना पड़ रहा है और बीआरओ मार्ग खोलने में लगा हुआ है।

उल्लेखनीय है कि रुदप्रयाग और चमोली में बुधवार को स्कूलों की छुट्टी घोषित कर दी गई है। मंदाकिनी, नंदाकिनी, पिंडर, अलकनंदा, सरयू, गोमती और गोरी नदी समेत बरसाती नदियां उफान पर हैं। हालांकि अभी नदियां खतरे के निशान से दूर हैं, लेकिन तटवर्ती क्षेत्रों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम के रूख से लोगों में दहशत है। उत्तराखंड में मौसम विभाग का पूर्वानुमान सही साबित हुआ। सोमवार देर रात चमोली जिले के घाट ब्लाक में बादल फटने से धुर्मा कुंडी गांव में भारी नुकसान हुआ है। बरसाती नदी में उफान आने से घर और खेत मलबे से पट गए। घबराए लोगों ने जागकर रात बिताई। सुबह प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और राहत कार्य शुरू किया गया। देहरादून जिला भी मौसम के असर से खासा प्रभावित हुआ। मसूरी के पास एक पिकअप वाहन पर बोल्डर गिर गया। इससे वाहन में सवार चार में से तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक घायल हो गया। दून शहर में भी एक व्यक्ति देर रात रिस्पना नदी में डूब गया। देर रात भारी बारिश के बीच वह घर में घुसे बरसाती पानी को निकाल रहा था कि उसका पैर फिसल गया। इसके अलावा सिल्ला गांव में बादल फटने के बाद 40 मवेशी मलबे में दब गए। कुमाऊं में भी हालात अलग नहीं हैं। पिथौरागढ़ जिले में सड़क निर्माण में जुटे मजदूरों के टेंट पर पहाड़ी से मलबा आ गिरा। इससे नेपाल के रहने वाले मजदूर की मौके पर ही मौत हो गई व एक घायल हो गया। बागेश्वर जिले में सरयू का जलस्तर बढ़ने पर हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया। सोमवार रात बागेश्वर में सायरन बजाकर लोगों को चेतावनी दी गई। अल्मोड़ा जिले के चैखुटिया क्षेत्र में बादल फटने से स्कूल भवन, पुलिया, रास्ते व पेयजल योजनाएं बह गईं। डरे ग्रामीणों ने गांव छोड़ कर जान बचाई। वहीं मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी है।
बुधवार को जनपद देहरादून में विभिन्न स्थानों पर हो रही मूसलाधार बारिश के कारण नदी नाले उफान पर आ गए हैं। जिसमें ऋषिकेश क्षेत्र में चंद्रभागा नदी, थाना डालनवाला, नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में रिस्पना नदी तथा थाना प्रेमनगर, सहसपुर क्षेत्र में आसन नदी का जलस्तर बढ़ गया है। जिससे आसपास के इलाकों में रहने वाले लोगों को पुलिस प्रशासन द्वारा अलर्ट जारी कर सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए बताया गया है।
पुलिस प्रशासन ने सभी क्षेत्रों में पुलिस बल तथा आपदा प्रबंधन की टीमों द्वारा किसी भी स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट पोजीशन में रहने को कहा गया है। पुलिस व जिला प्रशासन द्वारा स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है। इसके अतिरिक्त थाना क्लेमेनटाउन क्षेत्र में आशारोड़ी तथा डॉटकाली के बीच मलवा आ जाने के कारण दोनों तरफ सड़क पर जाम की स्थिति बनी हुई है। पुलिस तथा प्रशासन की टीमों द्वारा मौके पर पहुंचकर मालवा हटाने का कार्य किया जा रहा है, साथ ही थाना नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में 6 नंबर पुलिया, हरिद्वार रोड, आराघर, धर्मपुर, ईसी रोड, राजपुर रोड, चकराता रोड, सहारनपुर रोड में जलभराव के कारण जाम की स्थिति बनी हुई है, पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर स्थिति सामान्य करने के प्रयास किए जा रहे हैं। नेहरू कॉलोनी क्षेत्र में बाईपास के पास सृष्टि बिहार में घरों में पानी घुसने की सूचना है। कंडोली गांव में लोगों के घरों में पानी के साथ मलबा घुस गया है। टीवी, फ्रीज और अन्य घर की जरूरत का सामान खराब हो गया है। सहारनपुर रोड आशारोड़ी के पास मलबा आने यातायात पूरी तरह बंद हो गया है। बताया जा रहा है कि रात को भी मलबा आने से यातायात ठप हो गया था, जेसीबी से मलबा हटाने के बाद यातायात सुचारू कर दिया था। लेकिन सुबह हुई तेज बारिश में फिर मलबा आने सड़क बंद हो गई है।

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक पहुंचना चाहिए, तो आप हमें लिख भेजें shankhnaadtoday7@gmail.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें…

Facebook Comments

Random Posts