ऋषिकेश एम्स में भी दिल्ली एम्स की तर्ज पर शुल्क होगा तय

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ने जनता को बड़ी राहत दी है। एम्स प्रशासन ने उपचार और अन्य मदों में की गई वृद्धि को वापस ले लिया है। जिसके बाद अब यहां दिल्ली एम्स की तर्ज पर शुल्क तय किया जाएगा। दरअसल, एम्स प्रशासन ने पहले उपचार और अन्य मदों में बेतहाशा वृद्धि कर दी थी। जिसके खिलाफ राइट टू हेल्थ अभियान के सदस्यों ने दो दिन पहले अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया था। रविवार को एम्स प्रशासन ने पत्रकार वार्ता में विभिन्न मदों में की गई शुल्क वृद्धि वापस लेन की घोषणा की।

इस दौरान एम्स के चिकित्साधीक्षक डॉ. मुकेश त्रिपाठी ने कहा कि प्रशासन ने यहां सीजीएचएस की दरों के आधार पर उपचार और अन्य मदों में शुल्क वृद्धि की थी। लेकिन अब यह वृद्धि वापस ले ली गई है। भविष्य में यहां दिल्ली एम्स की तरह उपचार, ओपीडी, आईपीडी और अन्य मदों में शुल्क निर्धारित किया जाएगा।

वहीं अनशन पर बैठे प्रवीण सिंह ने कहा कि वह एम्स के इस फैसले की विशेषज्ञों की मदद से समीक्षा करेंगे। उसके बाद ही आंदोलन समाप्त करने का फैसला लिया जाएगा। रविवार को चिकित्सकों की टीम ने अनशनकारियों का स्वास्थ्य का परीक्षण किया। अनशनकारियों के स्वास्थ्य में गिरावट दर्ज की गई है। उप जिलाधिकारी हरिगिरी ने आंदोलनकारियों से अनशन समाप्त करने की अपील की है।

 

Facebook Comments

Random Posts