मानव तस्करी रोकने के लिए एसआईटी का होगा गठन

मानव तस्करी के मामले रोकने के लिए उत्तराखंड में एक स्पेशल टीम का गठन किया जाएगा। महिला एवं बाल विकास विभाग इसकी तैयारी कर रहा है। उत्तराखंड में पिछले कुछ सालों में मानव तस्करी के मामले लगातार बढ़े हैं। दो दिन पूर्व रुद्रपुर में पुलिस ने मानव तस्करी का एक बड़ा रैकेट भी पकड़ा था। जो कि नेपाल से छह लड़कियों को बनबसा होते हुए लाए थे और उन्हें कुवैत भेजना था। राज्य में वधू तस्करी के मामले भी लगातार सामने आए हैं, पिथौरागढ़, चंपावत, नैनीताल, ऊधमसिंह नगर तथा टिहरी और आसपास के क्षेत्र मानव तस्करी के लिहाज से काफी संवेदनशील हो चुके हैं। लेकिन सरकार और पुलिस प्रशासन ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

अब महिला एवं बाल विकास विभाग इसके लिए एक एसआईटी बनाने की योजना बना रहा है। जो कि मानव तस्करी के मामले रोकने को काम करेगी। विभागीय मंत्री रेखा आर्य का कहना है कि मानव तस्करी को लेकर सरकार गंभीर है। रुद्रपुर के मामले में एसएसपी से रिपोर्ट मांगी जा रही है। इसके अलावा विभाग की ओर से इसे लेकर विशेष अभियान चलाने और एसआईटी के गठन की योजना है। जिस पर काम चल रहा है। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री रेखा आर्य ने कहा कि किडनी कांड उन्हें बदनाम करने की साजिश है। ये उनके राजनैतिक प्रतिद्वंदियों की ओर से किया गया है।

उन्होंने इस मामले की जांच और दोषियों पर कार्रवाई की मांग खुद सरकार से की है। सोमवार को भाजपा मुख्यालय में जनता दर्शन कार्यक्रम के दौरान रेखा आर्य ने ये बात मीडिया से कही। रेखा ने कहा कि शिकायतकर्ता को मोहरा बनाया गया है। जबकि मामले का उत्तराखंड से कोई लेना देना नहीं है, फिर भी नैनीताल में शिकायत करवाई गई। इसके अलावा किडनी देने में उसकी सहमति के सबूत वह खुद दे चुका है।

Facebook Comments

Random Posts