सोलह साल बाद माँ – बेटे का हुआ मिलन

1

असम के मानसिक अस्पताल से रहस्यमय तरीके से गायब हुई सुभद्रा को दीमाजी जिले की वोटर लिस्ट में मृत मान लिया गया था। यहां तक कि परिवार को भी उम्मीद नहीं थी कि अब सुभद्रा वापस लौटकर आएगी। गायब होने के 14 साल तक जगह-जगह भटकते हुए दो साल पहले सुभद्रा जब बदहवास स्थिति में टिहरी में मिली तो पुलिस उन्हें लेकर दून नारी निकेतन आ गई। समाज कल्याण विभाग ने सुभद्रा के परिवार को तलाश कर जब यह सूचना उसके परिवार तक पहुंचाई तो उनकी खुशी का ठिकाना न रहा। सोमवार को विभाग ने सरकारी औपचारिकताएं पूरी कर सुभद्रा को बेटे के संग घर वापस रवाना कर दिया।

 

Facebook Comments

Random Posts