टाटा स्टील के चेयरमैन बने देहरादून के ओपी भट्ट

op-bhatt500
यूं तो देवभूमि अपने में कई चीजें समेटे हुए है हर क्षेत्र में देवभूमि के लोगों ने नई-नई मिसाले कायम की हैं इसी कड़ी में एक नाम ओपी भट्ट का भी है जिन्हें टाटा स्टील कंपनी में चेयरमैन के पद पर तैनाती दी गई है जिसे लोग काफी सराहा रहे हैं सोशल साइड से लेकर पत्र-पत्रिकाओं में इस खबर को तवज्जो दी जा रही है कि उत्तराखंड के निवासी ओपी भट्ट को चेयरमैन के पद पर देखते हुए सभी लोग अपने को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं

देवभूमि उत्तराखंड का नगीना टाटा स्टील कंपनी का सरताज बन गया। साइरस मिस्त्री के स्थान पर कंपनी के नए चेयरमैन बनाए गए भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व चेयरमैंन ओपी भट्ट देहरादून के ही रहने वाले हैं। दून के प्रतिष्ठित सेंट जोजफ काॅलेज से 12वीं और डीएवी काॅलेज से स्नातकोत्तर भट्ट अपनी नायाब कार्यशैली के जरिए एसबीआई के शीर्ष पद पर पहुंचे। ओपी भट्ट के मित्र और उत्तराखंड राज्य स्तरीय बैंकर्स समिति (एसएलबीसी) के पूर्व मुख्य प्रबंधक ज्योतिष घिल्डियाल बताते हैं कि 2006 से 2011 तक उनके चेयरमैंन के कार्यकाल में एसबीआई ने सभी पैरामीटर पर बुलंदियों को छुआ।

टाटा स्टील कंपनी के पहले गैर पारसी चेयरमैंन ओपी भट्ट मूलरुप से उत्तराखंड के पौड़ी जिले के रहने वाले हैं लेकिन परिवार काफी पहले से देहरादून के आर्यनगर में रह रहा है उनकी छोटी बहन रेनुका थपलियाल भी पंजाब नेशनल बैंक में देहरादून में ही अधिकारी हैं। भाई की उपलब्धियों से गौरवान्वित होकर वह कहती है, भाई बचपन से ही बहुत कुशाग्र थे। वह हर कक्षा में अव्वल रहे। डीएवी पीजी काॅलेज से बीएससी और फिर एमए अंग्रेजी में उन्होंने मेरठ यूनिवसिर्टी में टाॅप किया। वह बताती कि हमारे चार भाई-बहनों में से तीन बैंक में ही हैं।  भट्ट के मित्र ज्योतिष घिल्डियाल बैंक में उनके शुरुआती सफर को बताते हुए कहते हैं कि प्रोबेशनर अफसर के रुप में उन्हें पहले तैनाती मुंबई में मिली थी इसके बाद उन्हें लंदन भेजा गया जब लौटे तो देहरादून स्थित राजपुर रोड़ शाखा के प्रबंधक बने।

साइंस टुडे पढ़ने का विशेष शौकः
ओपी भट्ट को विज्ञान से संबंधित पुस्तकें पढ़ने का बहुत शौक था उनकी बहन रेनुका बताती है कि पिता स्वयंबर दत्त भट्ट सर्वे आॅफ इंडिया में राजपत्रित अधिकारी थे, पिता से उनकी एक ही मांग रहती थी कि साइंस टुडे ले आएं। वह बताते हैं कि सैकड़ों साइंस टुडे अभी भी घर में मौजूद हैं।

2010 में बतौर एसबीआई चेयरमैन आए थे दून
एसबीआई का चेयरमैन बनने के बाद 2010 में भट्ट उत्तराखंड की विशेष एसएलबीसी में भाग लेने देहरादून आए, तब उनकी मुलाकात अपने मित्र ज्योतिष घिल्डियाल से हुई। एसएलबीसी के मुख्य प्रबंधक होने के नाते ज्योतिष ही संचालन कर रहे थे तब भट्ट ने उनसे पूछा कि काॅलेज के दिनों वाली लीडरी अभी भी चल रही है । गौरतलब है कि घिल्डियाल बैंक कर्मचारी संगठन से भी जुड़े रहे।

परिचय एक नजर मेंः
नामः ओपी भट्ट
जन्मः 7 मार्च 1951 (देहरादून)
मूल निवासीः भटगांव (जनपद पौड़ी गढ़वाल)
शिक्षाः सेंट जोजफ एकेडमी, डीएवी पीजी काॅलेज, देहरादून।
सफरः 1972 में एसबीआई में पीओ के पद पर नियुक्त, इसके बाद बैंक में विभिन्न उच्च पदों पर तैनात।
जनवरी 2015 से अप्रैल 2006 तक स्टेट बैंक आॅफ त्रावणकोर के प्रबंध निदेशक
जून 2006 में एसबीआई के चेयरमैन बने, मार्च 2011 में सेवानिवृत
25 नवबंर 2016 को टाटा स्टील के अंतरिम चेयरमैन नामित

Facebook Comments

Random Posts