हाइकोर्ट का जोर का झटका, धीरे से

 

keshav-yogi

 

 

-एक व्यक्ति दो लाभ के पद सांसद और सीएम एक साथ कैसे

 

लखनउ।  आखिकार इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्य को जोर का झटका धीरे से दिया है। उच्च न्यायालय इलाहाबाद की लखनउ बेंच ने भारत सरकार के एटर्नी जनरल मुकुल रोहतगी को इस बाबत तलब किया है।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ गोरखपुर और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य इलाहाबाद के फूलपुर संसदीय क्षेत्र से सांसद है। समाजसेवी संजय शर्मा ने याचिका दायर कर अयोग्यता का निवारण अधिनियम 1959 के हवाला देते हुए कोर्ट को बताया कि यह दोनों व्यक्ति दो लाभ के पदां पर एक साथ नहीं रह सकते। इन प्रावधानों के तहत संजय शर्मा ने योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्या की नियुक्ति को रद्द करने की मांग की है।

गौरतलब है कि 19 मार्च को योगी आदित्यनाथ ने बतौर सीएम और केशव प्रसाद मौर्य ने डिप्टी सीएम के पद की शपथ ली थी।

Facebook Comments

Random Posts