कई फायदे भी हैं 500 और 1000 के नोट बंद होने पर, जानिए कैसे?

mo

मोदी सरकार द्वारा काला धन के खिलाफ एक बड़ा कदम उठाते हुए 500 और 1000 के नोटों को बंद करने की घोषणा ने जहां सबको हैरान-परेशान करके रख दिया है वहीं लोग घबरा रहे हैं कि आखिर करें तो क्या करें, उनके पास मौजूद 500 और 1000 के नोटों का क्या होगा वह इनको कहां चलाएं आदि सवाल लोगों के मन में तैर रहे हैं और लोग इस घोषणा से अपने को ठगा सा महसूस कर रहें हैं लेकिन हर चीज के दो पहलू होते हैं- अच्छा-बुरा, असली नकली, नफा नुकसान आदि। मोदी सरकार के इस फैसले से नुकसान के साथ-साथ आम लोगों को कई फायदे की भी उम्मीद जताई जा रही है आईए जानते हैं कैसे!

जानकारों का मानना है कि इस फैसले से गरीब, मध्यम वर्ग और नौकरी पेशा लोगों को फायदा होगा। इसके चलते रीयल एस्टेट में कीमतें कम होंगी और उच्च शिक्षा भी आम लोगों के दायरे में होगी। इस फैसले के चलते एक तरफ सरकार के रेवेन्यू में इजाफा होगा। वहीं, ब्लैक मनी को वाइट इकॉनोमी के दायरे में लाने में भी मदद मिलेगी। यही नहीं भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में भी इसे अहम माना जा रहा है।

अभी तक ब्लैक मनी को लोग आमतौर पर रीयल एस्टेट सेक्टर या प्रॉपटी की खरीद पर लगाकर उसे सफेद करने में लगे रहते थे। लेकिन अब इस फैसले से ऐसे लोग नकद भुगतान नहीं कर सकेंगे। ऐसे में प्रॉपर्टी की कीमतें कम होंगी और गरीबों के लिए मकान का सपना आसान हो सकेगा। इसके अलावा हायर एजुकेशन ऐसा सेक्टर है, जहां भ्रष्टाचार में लिप्त लोग अपनी पूंजी लगाते हैं। कैपिटेशन फीस के चलते उच्च शिक्षा आम लोगों की पहुंच से दूर हो चुकी है। इस फैसले से उच्च शिक्षा के मामले में भी समानता की स्थिति आ सकेगी क्योंकि अवैध कैश लेनदेन संभव नहीं होगा। यही नहीं इससे महंगाई पर भी लगाम लग सकेगी। यह फैसला आम लोगों के लिए कितना फायदेमंद साबित होगा  यह तो आने वाला वक्त ही बता पाएगा ।

Facebook Comments

Random Posts