मानव तस्करी में तीन महिलाओं सहित दो गिरफ्तार

 मानव तस्करी के मामले का पर्दाफाश करते हुए हरिद्वार पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए गिरोह की तीन महिलाओं सहित 2 तस्करों को गिरफ्तार किया है साथ ही तस्कारों के चंगुल से तीन बच्चों को सकुशल बरामद किया है।

 मानव तस्करी के मामले का पर्दाफाश करते हुए हरिद्वार पुलिस ने बड़ी कार्यवाही करते हुए गिरोह की तीन महिलाओं सहित 2 तस्करों को गिरफ्तार किया है साथ ही तस्कारों के चंगुल से तीन बच्चों को सकुशल बरामद किया है। पकड़ा गया गिरोह बच्चों और महिलाओं को बहला फुसलाकर पंजाब-हरियाणा एवम् अन्य राज्यों में बेचा करता था। 2 तस्कर अभी पुलिस की गिरफ्त से दूर बताए जा रहें है। सोमवार को अवधूत मण्डल में पत्रकार वार्ता के दौरान एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने बताया कि एन्टी हयूमैन ट्रैफिंकिंग सेल और एसओजी हयूमैन ट्रेफिंकिंग सेल ओर एसओजी के संयुक्त अभियान में इस गिरोह का भंडाफोड़ किया गया। इस गिरोह को चलाने वाली सीता का इस मामले में है आपराधिक इतिहास।
    पुलिस पूछताछ में सीता ने अलग अलगजगहों पर 5 घटनाओ को अंजाम देने की बात कबूल की है। पुलिस के अनुसार यर लोग बहुत ही सुनियोजित तरीके से घटनाओ को अंजाम देते थे । इनके सभी जगह संपर्क थे। पुलिस के अनुसार इनके पास से वकील का विजिटिंग कार्ड भी बरामद हुए है। आरोपी सीता के अनुसार ये लोग ऐसे घरों को निशाना बनाते थे जंहा माँ और बच्चे होते थे फिर माँ और बच्चे को अलग कर उन्हें अलग अलग भेचते थे।
      पड़के गये आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उन्होंने हाल ही में एक महिला को खानपुर में बेचा है जबकि उसके बच्चे को अन्य किसी राज्य मेें बेचा गया है। आरोपी के अनुसार बच्चे के लिए उन्हें 90 हजार से लेकर 1 लाख तक मिल जाते थे। पुलिस द्वारा पकड़ें गये आरोपियों में रामरदास पुत्र अनुपदास निवासी भटवाड़ी थाना सीतामणि बिहार, वारिस अली उर्फ बाबू पुत्र साबिर अली निवासी नन्दाईल थाना सहसबन बदायू उत्तर प्रदेश सहित तीन महिलाए जिनमें गिरोह की सरगना सीता पत्नी रामरदास, आशा सीता की बहु और जनारकी रामरदास के भाई की पत्नी शामिल है।

Facebook Comments

Random Posts