उत्तर प्रदेश की सड़कें झुठला रहीं अखिलेश के दावों को

0
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आजकल राज्य विधानसभा चुनाव के कैंपेन के दौरान सड़कों की खाक छानते हुए समझ आता होगा कि किस तरह से राज्य की जनता को इन खराब सड़कों से सफर करना पड़ता है। आप आगरा से लेकर एटा और मेरठ से लेकर मुरादाबाद कहीं भी चले जाइए, आपको सब जगहों पर खराब हालात में मिलेंगी सड़कें। कभी सड़क के गक्के परेशान करते हैं, तो कभी सड़क ही मौत का सबब बन जाती है। कुछ समय पहले हंसा रिसर्च के सर्वे का भी निष्कर्ष है कि उत्तर प्रदेश की सड़कों की हालत खस्ता है। प्रदेश के 11 शहरों में किए गए सर्वे को प्रदेश का आईना मानें, तो महज 22 फीसदी प्रतिभागियों ने ही कहा है कि प्रदेश में सड़कों की हालत संतोषजनक है। 47 पफीसदी प्रतिभागी अपने शहरों की सड़कों की हालत से बेहद निराश हैं। कुल 48 फीसदी प्रतिभागियों ने कहा कि दुर्घटनाओं का सबसे बड़ा कारण खराब सड़कें ही हैं। कानपुर, मुरादाबाद और अलीगढ़ में ऐसे लोगों की संख्या कापफी है। सर्वे में सड़कों की दुर्दशा के कई कारण गिनाए गये। कुल 90 पफीसदी लोगों ने माना कि निर्माण का घटिया स्तर सड़कों की खराब हालत के लिए जिम्घ्मेदार है। राज्य के 78 पफीसदी लोगों की राय यह भी है कि योजनाबद्ध न होने की वजह से सड़कों की खराब हालत है।

Facebook Comments

Random Posts