नए अंदाज में मनाया जाएगा उत्तराखंड स्थापना दिवस

उत्तराखंड में अबकी बार का राज्य स्थापना दिवस बेहद महत्वपूर्ण है, राज्य सरकार भी इस बार इस विशेष पर्व को नए अंदाज में मनाने जा रही है जिसके तहत 5 नवंबर से लेकर 10 नवंबर तक लगातार कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा. उत्तराखंड मूल की लगभग 200 शख्सियत जो देश के महत्वपूर्ण पदों पर बैठे है, वो इस मौके पर देहरादून में जुट रहे हैं।

9 नवंबर 2000 को 27वें राज्य के रूप में उत्तराखंड अस्तित्व में आया था जिसके बाद से लेकर अब तक क्या खोया और क्या पाया की तर्ज पर गोष्ठी में उत्तराखंड के अब तक के सफर और भविष्य में पेश आने वाली चुनौतियों और उनके समाधान पर चर्चा होगी. इसमें सबसे महत्वपूर्ण होगा पलायन को रोकना जो कि आज के उत्तराखंड के लिए ना केवल सबसे जरूरी है बल्कि बॉर्डर को सुरक्षित रखने के लिए पूरे देश के लिए आज की सबसे पहली जरूरत भी है. इसके अलावा विकास के लिए कैसे रोड मैप तैयार किया जाए इस पर भी चर्चा होगी।

वैसे तो स्थापना दिवस के शुरुआती कार्यक्रम में लगभग 200 हस्तियां शिरकत करेंगी लेकिन मुख्य रूप से छै। अजीत डोवाल, सेनाध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, अनिल कुमार भट्ट, रॉ प्रमुख अनिल धसमाना, प्रसून जोशी जैसी हस्तियां कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगी. इसी क्रम में 6 नवंबर को प्रदेश के सभी आईएएस अधिकारी स्कूली बच्चों से मुलाकात करेंगे. सभी अधिकारी बच्चों को शासन-प्रशासन के विषय में जानकारी देंगे और इसी दिन उत्तराखंड की नदियों को बचाने के लिए कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएंगे।

Facebook Comments

Random Posts