उत्तराखंड में अब सोलर हैंडपंप से बुझेगी लोगों की प्यास

 

pamp500

दूसरों को पानी देने वाला उत्तराखंड राज्य आज खुद ही प्यासा है, और प्रदेशवासी पानी की विकट समस्या से जूझ रहे हैं, प्रदेश के अधिकांश जनपदों में आज भी लोगों को पानी की समस्या से दो चार होना पड़ रहा है।

 

so500

पानी की समस्या से जूझते प्रदेशवासियों के लिए अच्छी खबर है क्योंकि अब सूरज की रोशनी प्रदेशवासियों की प्यास बुझाने में सहायक होगी।
जी हां! पेयजल निगम ने दून में 60 सोलर हैंडपंप लगाने का काम तकरीबन पूरा कर लिया है, हालांकि कुमाऊं में यह कार्य प्रगति पर है। ज्ञात हो कि ये सभी हैंडपंप सौर ऊर्जा से संचालित होंगे।

wa500

गौरतलब है कि कुछ समय पहले पेयजल निगम ने प्रदेश में पानी की किल्लत से जूझते ग्रामीण क्षेत्रों में सोलर हैंडपंप लगाने का निर्णय लिया था और इसके अन्तर्गत प्रदेश में दो चरणों में 240 सोलर हैंडपंप लगाने की योजना तैयार की गई थी। पहले चरण में 120 हैंडपंप लगाने का निर्णय लिया गया। जिसमें 60 अकेले देहरादून जनपद में और 60 कुमाऊं के विभिन्न जिलों में लगने थे। देहरादून में सोलर हैंडपंप लगाने का प्रथम चरण का काम पूरा किया जा चुका है, जबकि कुमाऊं के अल्मोड़ा में 15, बागेश्वर में पांच, पिथौरागढ़ में 10 व चंपावत में पांच हैंडपंप लगाने का काम चल रहा है। अब विभाग दून में द्वितीय चरण का काम भी शुरू करने की तैयारी में है। जिसके तहत जिले में 60 और सोलर हैंडपंप लगाए जाएंगे। इसके लिए पेयजल निगम ने शासन से तीन करोड़ रुपये के बजट की मांग की है।ssss500
दो सोलर नलकूप भी स्वीकृत

पेयजल निगम सोलर नलकूप लगाने की भी तैयारी कर रहा है। ट्रायल के तौर पर दो सोलर नलकूपों की स्वीकृति मिल गई है। पेयजल निगम के अनुसार एक सोलर नलकूप से प्रतिदिन आठ यूनिट तक बिजली की बचत होगी।

Facebook Comments

Random Posts