महिला ने बेटे की चाह में दे दिया 10 बेटियों को जन्म

एक महिला ने बेटे की चाह में एक के बाद एक 10 बेटियों को जन्म दे दिया। इसके बाद भी जब बेटे का मोह नहीं छूटा तो महिला की काउंसलिंग कराई गई तब जाकर वह ऑपरेशन के लिए तैयार हुई है। लेकिन इतनी संतानों को जन्म देने के बाद उसकी हालत फिलहाल ऐसी नहीं है कि उसका नसबंदी ऑपरेशन किया जा सके। अनीता बाई (परिवर्तित नाम) गुना शहर के नजदीकी गांव की रहने वाली है। अनीता की 9 बेटी पहले से हैं। शुक्रवार को उसकी 10 वीं डिलीवरी जिला अस्पताल के मैटरनिटी वार्ड में हुई, तो मामला उजागर हुआ।

राजस्थान से आई अनीता की मां ने बताया कि अनीता कक्षा पांचवी तक पढ़ी है। कई बार समझाया भी, इतने बच्चे पैदा मत करो, लेकिन कहती है एक बार बेटे का मुंह देखना चाहती हूं। अनीता की दो बड़ी बेटियों की शादी हो चुकी है, जो अस्पताल में अनीता के हाल-चाल जानने पहुंचीं। अनीता का पति खेती और मजदूरी करता है। अनीता का कहना है कि वह अपनी सभी बेटियों को ठीक से पाल रही है और अब नवजात को भी पालेगी। शुक्रवार को डीपीएचएनओ ई. थॉमस अनीता से मिलने पहुंचीं और बेटा-बेटी में अंतर न करने और जल्द ऑपरेशन कराने समझाइश दी।

पीसीपीएनडीटी प्रभारी ई. थॉमस ने बताया कि स्वस्थ्य और सुखी परिवार के लिए 2 बच्चों के बाद ऑपरेशन करा लेना चाहिए। दूसरे बच्चे के जन्म के तुरंत बाद भी ऑपरेशन हो सकता है। इस दौरान महिला को कानूनी रूप से किसी परिजन यहां तक की पति तक की सहमति की जस्र्रत नहीं है। वह स्वयं अकेले अपने बूते पर यह निर्णय ले सकती है। महिला को अगर बेटा या बेटी की चाहत में ज्यादा बच्चे पैदा करने कोई दबाव बनाता है, तो महिला इसकी शिकायत कर सकती है।

Facebook Comments

Random Posts